Business

Most Recent

The Reality of 'BOYCOTT CHINA' In India - Can India Actually बॉयकॉट चाइना ???

The Reality of 'BOYCOTT CHINA' In India - Can India Actually बॉयकॉट चाइना ???

''Boycott China'' In Indian Smart Phone Market :-

अभी 2 दिन पहले एक एम आई का फोन लांच हुआ है और कुछ सेकंड में ही सेल आउट हो गया यह कोई फर्स्ट केस नहीं है ऐसा हर बार होता है जितनी भी चाइनीज कंपनियां हैं सभी के फोन कुछ सेकंडो में ही सेल आउट हो जाते हैं आप जितने भी कंपेयर उठाकर देख लो ज्यादातर कंपनियां इंडिया में चाइनीस ही है जैसे मैं बात करूं एम आई शो मी ओप्पो वीवो वनप्लस रियल मी यह ज्यादातर कंपनियां चाइनीस ही है ऐसे में इंडिया के पास कोई भी ऑप्शन नहीं है चाइनीस फोन खरीदने के अलावा और मैं आपको एक सच्चाई बताता हूं इंडिया में एक भी कंपनी ऐसी नहीं है जो इंडिया की हो और इंडिया के लिए फोन बनाती हो सच्चाई यही है हमारे पास खुद की कोई ऐसी मैन्युफैक्चरिंग कंपनी नहीं है जो हमारे लिए फोन बना सके वैसे तो कहने को हम चांद तक पहुंच चुके हैं लेकिन हम अभी भी मोबाइल फोन नहीं बना सकते इसलिए ज्यादातर मार्केट पर बाहरी कंपनियों का ही कब्जा है अभी हम बात कर रहे हैं बाय कोर्ट चाइना बायकाट चाइना इस नोट यह आसानी से नहीं किया जा सकता इसके लिए पूरे देश को एक साथ होना पड़ेगा अगर मैं बात करूं कि अभी जो नया केस है जो हमारे जवान शहीद हुए हैं चाइनीस बॉर्डर पर उस समय उस समय से यह चीज और भी ज्यादा सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है आपको बस इतना ही नहीं करना है कि सोशल मीडिया पर खाली #बारकोड चाइना सारी पोस्ट हैं आप उसके खिलाफ अगर शेयर करोगे ऐसा करने से कुछ नहीं होगा हमें कुछ ऐसे कदम उठाने पड़ेंगे जिनसे की हम एक्चुअल में चाइना को काट कर सकें मैं आज अकेले मार्केट के बारे में बात नहीं करूंगा इलेक्ट्रॉनिक्स मार्केट जितनी भी लेट है इलेक्ट्रॉनिक्स मार्केट है साड़ी मार्केट चाइना का है चाइना का ही कब्जा है ऐसे में इतना आसान नहीं है कि हम लोग बाइक से ना करें

Boycott Chinese application Tik Tok :-


The Reality of 'BOYCOTT CHINA' In India - Can India Actually बॉयकॉट चाइना ???

अगर हम टिक टॉक पर कंटेंट की बात करें तो इस एप्लीकेशन पर ज्यादातर कंटेंट करंज करंज कंटेंट ही है तो ऐसे में आज कितनी भी एप्लीकेशन प्ले स्टोर पर मौजूद हैं सबसे ज्यादा क्रंच कंटेंट बनाने वाली यही एप्लीकेशन है इस एप्लीकेशन को बैन होना ही चाहिए ज्यादातर बच्चे आज अपना ज्यादातर टाइम इसी एप्लीकेशन पर वेस्ट करते हैं अगर हम सच्चे देशभक्त हैं और सच्चे हिंदुस्तानी हैं तो हमें यह एप्लीकेशन तुरंत अपने फोन से डिलीट कर देनी चाहिए इस एप्लीकेशन से ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा लेकिन हम एक तरीके से यह शौक कर सकते हैं कि इंडिया में भी अभी एकता है और हम सब लोगों के साथ खड़े होंगे तो कोई भी काम हमारे लिए बड़ा नहीं है एक छोटी सी एप्लीकेशन को भी अगर आप देश के लिए डिलीट नहीं कर सकते तो समझ लीजिए आपके मन में देश के लिए कोई देश भक्ति नहीं है जिस एप्लीकेशन से सिर्फ आपको नुकसान और नुकसान ही होगा इस एप्लीकेशन को डिलीट कर देने में ही सबकी भलाई है टिक टॉक टिकटोक बॉयकॉट बाय गॉड चाइना यह लेबल हमें लेकर आगे बढ़ना चाहिए चाइना रिकॉर्ड यह रहेगा की एक देश ने पूरी एक एप्लीकेशन को ही डिलीट कर दिया ऐसे में हमारे लिए यह जरूरी है कि हम सब एक साथ रहे एक आवाज में रहे और इस जैसी और भी बहुत सारे चाइनीज एप्लीकेशन जो कि 1 तरीके से हमारी डाटा चोरी करते हैं हमारे फोन को रोक सकती हैं और हमारी प्राइवेसी के लिए बहुत ही खतरनाक होती हैं ऐसी एप्लीकेशन को डिलीट करने में ही सबकी भलाई है चाइना बाइक ऑफ चाइना बाइक करना चाहिए और हमें सारी एप्लीकेशन जो कि चाइनीज एप्लीकेशन है वह सारी एप्लीकेशन से अपने फोन से डिलीट कर देनी चाहिए अभी तक लगभग लाख लोग अपने फोन से टिक टॉक एप्लीकेशन डिलीट कर चुके हैं और इसकी रेटिंग प्ले स्टोर पर बहुत ही कम हो गई है जब से इंडिया में चाइना चला है तब से यह एप्लीकेशन सबसे ज्यादा डिलीट की जाने वाली एप्लीकेशन है प्ले स्टोर होकर 2 स्टार होकर रह गई है अगर हम ऐसे ही एक साथ रहे तो 1 दिन ऐसा आएगा जब चाइना को हमारे आगे झुकना पड़ेगा

बॉयकॉट चाइनीज एप्लीकेशन टिक टॉक एक ऐसी एप्लीकेशन है जोकि कम समय में हर एक चीज प्रदान करती है जिससे कि आदमी हो सके हो सके खुश हो सके यह एडिक्शन बनाने वाली एप्लीकेशन है अभी इंडिया में लगभग हर किसी के फोन में एप्लीकेशन देखने को मिल जाती है हम चाहे तो इस एप्लीकेशन को डिलीट करके करके निकाल सकते हैं यह एप्लीकेशन है नहीं कर पा रहे

How We Can Boycott China :-

हम आपको बताएंगे कि कितना खतरनाक है चाइनीस कम्युनिस्ट पार्टी और उसके वोट करना हम आपको बताएंगे कि कैसे हम रिस्टिक ली और प्रैक्टिकली चाइना को वोट कर सकते हैं
अभी लगभग दुनिया का हर देश साइना को बार कट करने के लिए तैयार है चाइना ऐसी खतरनाक नीति अपना रहा है जिससे कि सभी को नुकसान ही नुकसान है अभी मैं करंट में बात करूं तो अमेरिका ने चाइना को वाइट करने के लिए अपने नीतियों में बदलाव किया है इसमें उन्होंने व्यापार के जरिए कहना को व कट करने की सोच ली है जितने भी चाइनीज आइटम वहां पर ट्रेड किए जा रहे हैं सब परीक्षाएं जूती बढ़ा दी गई है m.s.i. चाइना की तरफ से से हुआ है जितने भी अमेरिकी प्रोडक्ट चाइना में आ रहे हैं उन्होंने भी अपने एक्साइज ड्यूटी बढ़ा दी है यहां तक कि ऑस्ट्रेलिया की बात करें तो वहां पर भी सेम चीज हो रही है हर जगह चाइनीस प्रोडक्ट ड्यूटी बढ़ाई जा रही है वह चाइना को व्यापार के जरिए वोट करने का काम चल रहा है इंडिया अभी इसके लिए सोची भी नहीं रहा कि वह कैसे इस प्रस्तुति में आगे बढ़ेगा अगर इंडिया चाइनीस पाठ को बायकॉट करता है चाइनीस प्रोडक्ट पर एक्साइज ड्यूटी बढ़ाता है तो ऐसे में जितने भी चाइनीस प्रोडक्ट हम अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में यूज कर रहे हैं वह सारे प्रोडक्ट कि हमें महंगे हो जाएंगे और ऐसा हो जाने से एक आम आदमी पर इसका बहुत बड़ा असर पड़ेगा क्योंकि अभी हमारे पास उन प्रोडक्ट के लिए कोई भी सब्सीट्यूट नहीं है अगर हमारे पास पहले से ही चाइनीस प्रोडक्ट की टक्कर के लिए कोई एक प्रोडक्ट होता तो हम इन चाइना को वोट कर सकते थे लेकिन अभी इंडिया चाइना को वोट करने की तिथि में बिल्कुल भी नहीं है अगर हम को वोट करते हैं तो उससे चाइना पर कुछ ज्यादा फर्क नहीं पड़ने वाला क्योंकि चाइना का टोटका तीन पर्सेंट ही इंडिया से प्यार करता है तो ऐसे में साइना हमारे लिए और भी मुश्किल हो जाता है तो हमें इससे हमें इससे उबरने के लिए क्या करना चाहिए हम आपको डिटेल में समझाएंगे हमारे साथ अभी हमें क्या करना होगा हमें पहले जितने भी चाइनीस प्रोडक्ट है जो कि हमारी मार्केट को ज्यादा कर रहे हैं उन सारे प्रोडक्ट की लिस्ट तैयार करनी होगी और उसी लिस्ट पर हमें उनके कंपैरिजन में अपने प्रोडक्ट निकालने होंगे एक ही जरिया है कि हम को हमको हम चाइना को बॉयकॉट कर सकते हैं
The Reality of 'BOYCOTT CHINA' In India - Can India Actually बॉयकॉट चाइना ???

अगर हम चाइना के साथ यह ट्रेड वॉर जारी रखते हैं तो इससे हमारी जीडीपी पर भी फर्क पड़ सकता है जैसे कि अभी एक रिपोर्ट के मुताबिक अमेरिका और चाइना दोनों के बीच ट्रेड वॉर चल रहा है तो इस ट्रेड वॉर से चाइना पर भी और अमेरिका पर भी दोनों पर ही काफी असर पड़ा है एक रिपोर्ट के मुताबिक दोनों की जीडीपी में लगभग एक परसेंट एक कमी आई है तो ऐसे में देखा जाए तो अगर हम साइना को बॉयकॉट करते हैं तो हमारी जीडीपी में भी बहुत ज्यादा फर्क पड़ने वाला है लेकिन उसके लिए हमें पहले ही तैयारियां करनी पड़ेगी हर एक चीज को समझना पड़ेगा हर एक क्वेश्चन को ध्यान में रखकर ही चाइना को बाय काट करना पड़ेगा अगर ऐसा ही रहा तो सहना को बॉयकॉट करना हमारे लिए बहुत ज्यादा मुश्किल होने वाला है चाइना को वर्कआउट करना इतना आसान नहीं होगा रीड मोर ट्रेड वॉर जिन देशों के बीच में होता है उन देशों के हर एक चीज पर असर पड़ता है वहां पर धीरे-धीरे चीजें महंगी होने लगती हैं और साथ में उन देशों की जीडीपी जीडीपी पर बहुत असर पड़ता है

The Reality of 'BOYCOTT CHINA' In India - Can India Actually बॉयकॉट चाइना ???


The Reality of 'BOYCOTT CHINA' In India - Can India Actually बॉयकॉट चाइना ??? The Reality of 'BOYCOTT CHINA' In India - Can India Actually बॉयकॉट चाइना ??? Reviewed by Asrog on June 24, 2020 Rating: 5

No comments:

Email Sup.

Enter your email address:

Delivered by FeedBurner

Flickr Widget

Theme images by Aguru. Powered by Blogger.